Can eye diseases be cured?

0
37
Can eye diseases be cured

क्या नेत्र रोग ठीक हो सकते हैं?

Can eye diseases be cured?-आपकी आंखों को अक्सर आपकी आत्मा को खिड़कियां कहा जाता है। जब हम सोते हैं तो इस अंग को आराम मिलता है। हम अपनी आंख की मांसपेशियों से  हर समय काम करते हैं, फिर भी उन्हें व्यायाम करने में विफल रहते हैं। Can eye diseases be cured? यहाँ, हम आपकी आँखों के व्यायाम और उन्हें स्वस्थ रखने के कुछ आसान तरीके बताते हैं। साथ ही, थकी आँखों को शांत करने और लुब्रिकेट करने के कुछ घरेलू उपचारों का इस लेख में उल्लेख किया गया है। योग दृष्टि को मजबूत बनाने, आराम करने और आंखों की मांसपेशियों को टोन करने और तनाव को कम करने में मदद करता है ।

सभी नेत्र समस्याओं का उपचार- आयुर्वेद

Can eye diseases be cured? eye disease बहुत तेजी से बढ़ती जा रही है । किसी को नजदीक का आँखों का चश्मा है तो किसी को दूर का ग्लासेज। और Cataracts, ग्लूकोमा से लेकर के  फिर आँखों की एलर्जी। फिर कलर विजन  myopia  और तमाम नेत्र रोग दिन प्रतिदिन बढ़ते ही जा रहे हैं।

आंखों में एलर्जी भी लोगों की एक बहुत बड़ी समस्या बन चुकी। जैसे जैसे पल्यूशन बढ़ता जा रहा हैं आंखों में जलन होती है। Can eye diseases be cured? आज देश वा बिदेस में हर एक दूसरा आदमी किसी न किसी नेत्र रोग से पीड़ित है ।  इतनी बड़ी समस्या है और इसका छोटा सा समाधान है  ,आप  सुबह उठ करके मुंह में पानी भरो। ठंडे पानी से आंखों को धोना है  , इस बिधि को करने से सौ साल तक आपकी आंखें स्वस्थ रहेगी ।

करे शिर्षासन अभ्यास

Can eye diseases be cured? सब  योग का अभ्यास किया करे, शीर्षासन किया करे  लेकिन  बड़ी उम्र में शीर्षासन  न करें , हमारे सब बड़े बुजुर्ग ये परंपरा से करते आए थे सीखते आए थे। हमने अपनी परंपरा अपनी संस्कृति अपने रीति रिवाज अपनी सभ्यता को छोड़ दिया। पहले सब योगा अभ्यास  किया करती थी शीर्षासन किया करते थे।

Can eye diseases be cured

अनुलोम-विलोम प्राणायाम

Can eye diseases be cured? जो बच्चा बचपन से शीर्षासन करेगा। सौ साल तक उसका आंखों पर चश्मा नहीं लगेगा। स्मरण करे सौम्य भीष्म जी को करीब 115 वर्ष की उम्र में फिर करीब 125 वर्ष की उम्र में सवा सौ साल तक उनकी आंखों पर चश्मा ही नहीं था। ओ भी शीर्षासन किया करते थे । लेकिन बड़ी उम्र में शीर्षासन  न करें  शीर्षासन के साथ साथ अनुलोम विलोम प्राणायाम ये तो सभी कर सकते हैं । अनुलोम-विलोम प्राणायाम नेत्र रोगों के लिए बहुत ही उपयुक्त होता है ।

एक्यूप्रेशर से होता है लाभ

Can eye diseases be cured? अनुलोम विलोम प्राणायाम करने से सारी नसें नाड़ियों की जहां रोग मिटेंगे उच्च रक्तचाप नियंत्रित रहेगा। राइट – लेफ्ट हमारा ब्रेन उसे से एक्टिवेट रहता है। वहीं से नेत्र रोग सब दूर हो जाते हैं और अनुलोम विलोम प्राणायाम करने के साथ साथ आप हर दिन एक से दो मिनट अपने दाएं बाएं हाथ में एक्यूप्रेशर का पॉइंट दबा सकते हैं।

पहले और दूसरे अंगूठे के नीचे कुछ देर दबाने से बहुत  जबरदस्त लाभ करता है। आंखों के रोगों में । पैर में भी ऐसे ही पॉइंट दबा सकते है ।Can eye diseases be cured? इस बिधि से  पांच दश साल के बच्चों से लेकर के 70 -80 साल तक के लोगों के आँखों के चश्मे उतर गए, Cataracts  और ग्लूकोमा ठीक हुवे है ।

myopia  कि डबल विजन की प्रॉब्लम  ठीक हुआ है ,आंखों की सभी तरह की एलर्जी की प्रॉब्लम को ठीक हुआ  है, और आंखों के ऐसे ऐसे रोग की किसी के तो आँखों में आँसू बनने बंद हो गए थे उन तक को इस बिधि को अपना कर ठीक हुआ है।

आयुर्वेद दृष्टि ड्रॉप

Can eye diseases be cured? दृष्टि करके एक आई ड्रॉप पतंजलि बनाते हैं उसका भी प्रयोग कर सकते हैं। इस ड्रॉप को घर में भी बनाया जा सकता है । एक चम्मच अदरक का रस  छिलका उतार कर के, उसमें पानी नहीं लगना चाहिए और अदरक को मिक्सी में डाल करके उसका रस निकालें।

एक चम्मच अदरक का रस एक चम्मच सफेद प्याज का रस एक चम्मच नींबू का रस और तीन चम्मच शहद मिलाकर रख लें। आप इसको फ्रिज में रखें तो दो तीन महीने तक चल जाती है।

यदि बनाने में दिक्कत महसूस हो तो पतंजलि  के दृष्टि ड्रॉप को आप प्रयोग कर सकते है । इसको  एक एक बूंद आंखों में डालने से इसे से भी चश्मा उतर है,

Also Read:Good Morning Quotes 

रसायन  सेवन से होता है फायदा

Can eye diseases be cured? Cataracts ग्लूकोमा से ले कर किसी भी तरह के नेत्र रोग  दूर होते हैं। आमलकी रसायन 200 ग्राम। सत्तामृत लौह 20 ग्राम और मुक्ता शक्ति भस्म 10 ग्राम। इसमें मोती पुष्टि भी दो से चार ग्राम मिलाई जा सकती है।

आमलकी रसायन आंवले के चूर्ण से तैयार किया जाता है आंवले के चूर्ण में आंवले के रस की भावना देने से आमलकी रसायन तैयार होता है। ये बड़ा जबरदस्त होता है।  

वैसे भी आंवले का रस भी पीएं तो ये भी बहुत उपयुक्त होता है, आँखों के लिए आंवले का किसी न किसी रूप में हमको सेवन करना ही चाहिए । एक से दो आंवला रोज खा लीजिए चाहे आप मुरब्बा के रूप में खा लीजिए चाहे उसको आप ऐसे ही चब्बा  कर खा  लीजिये ।

चटनी बना के खा लीजिये, च्यवनप्राश के रूप में लीजिए या आंवले का पाउडर खा लीजिए अथवा आमलकी रसायन खा लीजिए।

Can eye diseases be cured

Can eye diseases be cured? अमृत रसायन जो च्यवनप्राश की तरह है एक बहुत अच्छा टॉनिक होता है और वो आप गर्मियों में खा सकते हैं जो आँखों के लिए बहुत अच्छा होता है,

आंवले का किसी न किसी रूप में हमको सेवन जरूर करना चाहिए जिससे हम नेत्र रोगों से बच जाते हैं। बहुत लोगो  ने ये आमलकी रसायन का प्रयोग करके, आंवले का जूस का या किसी न किसी रूप में आमलकी रसायन का सेवन करके और ये एक्यूप्रेशर का प्वाइंट दवा करके, अनुलोम विलोम प्राणायाम  करके, दृष्टि आई ड्रॉप का प्रयोग करके। एक दो के नहीं लाखों नहीं करोड़ों लोगों की नेत्र रोग ठीक किया हुआ  है,

ये जबरदस्त प्रक्रिया है और यदि सौ साल तक आपकी आंखें ठीक से रह सकती हैं , तो इस से बड़ा आपके लिए वरदान क्या हो सकता है। भगवान का बहुत बड़ा वरदान है हमारी आँखें।

यदि आपके पास दृष्टि ही नहीं है तो आप इतनी सुंदर सृष्टि को नहीं दे सकते और आपको आँखें तो है लेकिन आप चश्मा लगा करके या कॉन्टेक्ट लेंस लगा कर देखते हैं ,तो ये आपको कम्फर्ट फील नहीं होता। यदि आदमी की आँखों पर चश्मा लग जाता है तो 15 20 साल का जो बचा है वो चालीस का लगता है और 20 25 साल का जवान है तो वो पांच दश साल और ज्यादा बुजुर्ग लगने लगता है ।

तो यह हमारी  प्रश्नाल्टी के लिए भी एक बहुत अच्छी चीज नहीं होती इसलिए  आजकल आंख में चश्मा न लगाना पड़े तो कॉन्टेक्ट लेंस आदि लगाते है जो कि बहुत अच्छे नहीं होते ।

Can eye diseases be cured?  हमारी सेहत के लिए  तो हम योग से आयुर्वेद के प्रयोग से और छोटे छोटे घरेलू उपाय करके नेत्र रोगों से यदि बच सकते हैं तो क्यों नहीं हम योग और आयुर्वेद को अपनाएं।

योग और आयुर्वेद ये पूरे विश्व को भारत ऋषियों की देन है और योग और आयुर्वेद इस ऋषियों की विद्या में ऋषियों के हमारी इस जियान में हमारी समस्त समस्याओं का समाधान है।

सामान्य नेत्र रोगों से लेकर  जिनके आंखों का आँसू बनना तक बंद हो गया था उन  लोगो ने भी योग आयुर्वेद का प्रयोग करके पुनः स्वस्थ्य हुआ है ।

यह लेख यदि आप को अच्छा लगा हो तो प्लीज अपने दोस्तों को शेयर करे, धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here